Home > वायरल > पीएम मोदी ने डिजिटल कैमरा और ईमेल के इस्तेमाल बताया अनुभव तो सोशल मीडिया पर लोगों ने बनाया मज़ाक

पीएम मोदी ने डिजिटल कैमरा और ईमेल के इस्तेमाल बताया अनुभव तो सोशल मीडिया पर लोगों ने बनाया मज़ाक

pm modi

टीवी चैनल में दिए गए बयानों को लेकर प्रधानमंत्री मोदी सोशल मीडिया पर छाए हुए हैं। दरअसल यह बयान उनके समर्थन में नहीं बल्कि उनके ज्ञान को लेकर सवाल हो रहा है। सोशल मीडिया पर लोग उनके ज्ञान का मजाक उड़ा रहे हैं और उनके द्वारा किए गए टेक्नोलॉजी पर बयान को वायरल किया जा रहा है।

हाल ही में प्रधानमंत्री मोदी का एक बयान सामने आया था जिसमें उन्होंने रडार टेक्नोलॉजी पर अटपटा बयान दिया था। उन्होंने न्यूज़ नेशन को दिए गए इंटरव्यू में कहा था कि बालाकोट स्ट्राइक के दौरान मौसम खराब था और उन्होंने यह कहा कि बादल है ऐसे में विमानों को रडार पकड़ नहीं सकेगा। इसके बाद सोशल मीडिया पर उनका मजाक बना था।

अब एक बार फिर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक इंटरव्यू का क्लिप सामने आया है जिसमें उन्होंने डिजिटल कैमरा को लेकर बयान दिया है। इस इंटरव्यू में प्रधानमंत्री मोदी ने दावा किया है कि वह भारत में पहले व्यक्ति थे जिन्होंने 1988 में डिजिटल कैमरा का प्रयोग किया था और उस कैमरे से उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एलके आडवाणी की एक रैली की तस्वीर खींची थी।

प्रधानमंत्री मोदी ने यह भी दावा किया है कि 1988 में उन्होंने ई-मेल का भी प्रयोग किया था। इस बयान में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि उन्होंने तुरंत ही एलके आडवाणी की रैली की तस्वीर डिजिटल कैमरे से खींच कर दिल्ली भेज दी थी और जब दूसरे दिन अखबार में कलर तस्वीर छपी तो अडवाणी भी परेशान हो गया कि इतनी जल्दी यह तस्वीर वहां कैसे पहुंची।

अब उनके बयान पर तरह तरह की प्रतिक्रिया आ रही है।

एक यूज़र शाहिद अख्तर ने लिखा कि वास्तव में बिक्री पर जाने वाला पहला डिजिटल कैमरा था 1990 डिक्लेम मॉडल। एक ग्रे संस्करण को लॉजिटेक फोटोमैन के रूप में मार्केटिंग किया गया था। लेकिन मोदी के पास यह 1988 में ही आ गया था। उनके पास ईमेल सेवा भी थी हालांकि भारत में इंटरनेट 14 अगस्त 1995 को पेश किया गया था।

कृष्ण यादव ने दावा किया कि ये पहली फोटो थी जो ईमेल अटैचमेंट के तौर पर भेजी गयी थी। इसे भेजने वाले थे Nathaniel Borenstein जिन्होंने 1992 में MIME स्टैण्डर्ड का आविष्कार किया। जबकि मोदीजी आडवाणी की फोटो 1987 में ही ईमेल से दिल्ली भेज चुके थे। तो क्या MIME के अविष्कार का क्रेडिट अब मोदी को नहीं मिलना चाहिए?

Leave a Reply