Home > वायरल > मुस्लिम पत्रकार ने महिलाओं को लेकर समाज से सोच पर किया ट्वीट तो भाजपा प्रवक्ता ने मुस्लिम समाज पर खड़ा किया सवाल

मुस्लिम पत्रकार ने महिलाओं को लेकर समाज से सोच पर किया ट्वीट तो भाजपा प्रवक्ता ने मुस्लिम समाज पर खड़ा किया सवाल

Muslim Journalist, BJP Spokesperson, Women

बीजेपी के प्रवक्ता ने मुसलमानो पर एक विवादित टिप्पणी करते हुए अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा है कि, “हलाला परंपरा में पैदा होकर पले-बढ़े लोग हर जगह ‘ ग़ैप ‘ ही तलाशते हैं, इन्हें हर तरह के ‘ इलाज ’ की ज़रूरत है।” दरअसल इससे पहले एक मुस्लिम पत्रकार तुफैल अहमद नाम ने महिलाओं को लेकर लोगों के घृणित नजरिए पर सवाल उठाया था।

खबरों के मुताबिक तुफैल अहमन ने दो तस्वीरें ट्वीट करते हुए लिखा कि ‘कई सारे लोग सोचने की ज़हमत नहीं उठाते। यह ट्वीट साड़ी और जींस को लेकर नहीं है। बल्कि जिस तरह से लोग महिलाओं के बारे में सोचते हैं उसे लेकर है और जब उनकी मानसिक सोच उजागर हो जाती है तो उसमे नफरत और नंगापन होता है’। लेकिन पत्रकार को जवाब देते हुए भाजपा प्रवक्ता ने मुस्लिम कौम को लेकर ही सवाल खड़ा कर दिया।

आपको बता दे हलाला कहते किसको हैं। दरअसल हलाला मतलब अगर एक पुरुष ने औरत को तलाक दे दिया है तो वो उसी औरत से दोबारा तब तक शादी नहीं कर सकता जब तक वह औरत किसी दूसरे पुरुष से शादी कर तलाक न ले ले। लेकिन यह जानना जरूरी है कि यह इत्तिफ़ाक(दोनों की मर्ज़ी से ) से हो तो जायज़ है जान बूझ कर या योजना बना कर किसी और मर्द से शादी करना और फिर उससे सिर्फ इस लिए तलाक लेना ताकि पहले शौहर से निकाह जायज़ हो सके यह साजिश नाजायज़ है।

तीन तलाक की तरह हैं हलाला को लेकर भी सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है। मुस्लिम संप्रदाय में चर्चित हलाला और बहुविवाह को महिलाओं के अधिकार के खिलाफ माना जाता है। मुस्लिम समुदाय में बहुविवाह कानून के तहत पुरुषों को एक से ज्यादा महिलाओं से शादी करने की छूट प्राप्त है। कई महिला संगठन इसे महिलाओं के अधिकारों के खिलाफ मानते हैं। हालांकि कई मुस्लिम धर्मगुरु बहुविवाह प्रथा का समर्थन भी करते हैं।

Leave a Reply