Home > समाचार > ईवीएम और वीवीपैट को लेकर एक बार फिर विपक्ष ने उठाया सवाल, बोले ‘फिर जाएंगे सुप्रीम कोर्ट’

ईवीएम और वीवीपैट को लेकर एक बार फिर विपक्ष ने उठाया सवाल, बोले ‘फिर जाएंगे सुप्रीम कोर्ट’

लोकसभा चुनावों का एक चरण का मतदान पूरा हो चुका है लेकिन विपक्षी पार्टियों ने एक बार फिर से ईवीएम को लेकर सवाल खड़े किए हैं। इस बार उन्होंने वीवीपैट मशीन को लेकर भी कई सारे बयान दिए हैं।

कांग्रेस के साथ अन्य विपक्षी दलों ने आज दिल्ली में कार्यक्रम किया था और उसके बाद प्रेस वार्ता करते हुए विपक्षी दलों ने कहा है कि ईवीएम के साथ छेड़छाड़ की गई है और वीवीपैट पर कहा कि लगभग 50 प्रतिशत पर्चियों का ईवीएम से मिलान होना चाहिए और जल्दी इसको लेकर सुप्रीम कोर्ट पहुंचेंगे।

सेव डेमोक्रेसी नाम से एक कार्यक्रम रविवार को दिल्ली में आयोजित किया गया था जिसमें कांग्रेस की ओर से अभिषेक मनु सिंघवी व कपिल सिब्बल, वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ-साथ आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू भी मौजूद थे।

मीडिया से बात करते हुए अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि ईवीएम में वोट डालने के लिए जो बटन दबाया तो उसके साथ लगी वीवीपैट मशीन से पर्ची निकली और सिर्फ 3 सेकंड के लिए ही नजर आयी। यह वक्त बहुत कम है और इसे बढ़ाकर कम से कम 7 सेकंड किया जाना चाहिए।

इसके साथ सिंघवी ने चुनाव आयोग पर भी आरोप लगाया कि वह चुनाव आयोग इस मामले के निपटारे के लिए पर्याप्त कदम नहीं उठा रहा है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि ईवीएम में छेड़छाड़ हुई है। मशीनों में गड़बड़ नहीं है लेकिन से छेड़छाड़ जरूर की गई है। उन्हें कुछ इस तरह डिजाइन किया गया है कि वोट बीजेपी को जाता है। बतौर इंजीनियर मैं जानता हूं कि कुछ तो गड़बड़ है।

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने आरोप लगाया कि तेलंगाना में तकनीक का इस्तेमाल करते हुए 25 लाख मतदाताओं का नाम वोटर लिस्ट गायब किया गया है।

कपिल सिब्बल का कहना है कि उन्हें वोटरों पर भरोसा है लेकिन मशीन पर नहीं है। चुनाव आयोग 12 से 24 घंटे के लिए अगर ईवीएम हमें दे दे तो हम बता देंगे कि कैसे उनके साथ छेड़छाड़ की जा रही है। इसको लेकर हम बहुत जल्दी ही सुप्रीम कोर्ट भी जायेंगे।

Leave a Reply