Home > समाचार > आप के कॉल सेंटरों पर दिल्ली पुलिस की छापेमारी के बाद आयोग पहुंचे नेता, पहले धरना दिया फिर मिला समय

आप के कॉल सेंटरों पर दिल्ली पुलिस की छापेमारी के बाद आयोग पहुंचे नेता, पहले धरना दिया फिर मिला समय

लोकसभा चुनाव नजदीक हैं और ऐसे में सभी राजनीतिक पार्टियों के तेवर तेज दिखाई दे रहे हैं। अब आम आदमी पार्टी और दिल्ली पुलिस के बीच में विवाद बढ़ता जा रहा है।

दरअसल आम आदमी पार्टी ने अपने कॉल सेंटरों पर दिल्ली पुलिस के छापे को लेकर चुनाव आयोग के दफ्तर के बाहर प्रदर्शन किया है। दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के साथ सांसद संजय सिंह और अन्य कार्यकर्ता धरने पर बैठ गए थे और चुनाव आयोग के अधिकारियों से मुलाकात की मांग कर रहे थे।

इसी बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर लिखा कि चार दिन में तीसरी रेड? और जब हम पूछ रहे हैं कि हमारा गुनाह क्या है तो पुलिस कुछ नहीं बता रही? बस एक ही बात बोल रही है पुलिस – आपका data दे दो। इसका मतलब चुनाव आयोग हमारा data लेकर अमित शाह को देना चाहता है।

मनीष सिसोदिया ने ट्वीट करते हुए लिखा मैं चुनाव आयोग के बाहर खड़ा हूं और चुनाव आयोग से मिलने के लिए वेट कर रहा हूं जब तक चुनाव आयोग नहीं मिलेगी तब तक मैं निर्वाचन सदन के बाहर इंतजार करूंगा।

थोड़े समय बाद, चुनाव आयोग की ओर से आप नेताओं को उनकी शिकायत सुनने के लिए बुलाया गया था। इस बात की जानकारी मनीष सिसोदिया ने दी थी।

असल मामला यह है कि आम आदमी पार्टी ने अपने कथित तौर पर मतदाताओं का नाम सूची से हटाए जाने के मामले को उठाते हुए कॉल सेंटरों की मदद से दिल्ली के लोगों को फोन कर कोशिश कर रहे हैं कि लोग दोबारा अपना नाम सूची में जुड़वा लें।

आयोग से इसकी शिकायत की गई तो दिल्ली पुलिस ने मामला दर्ज करते हुए जांच शुरू कर दी थी। वहीं आम आदमी पार्टी का आरोप है कि भारतीय जनता पार्टी के इशारे पर कॉल सेंटरों के संचालकों का शोषण किया जा रहा है।

Leave a Reply